UP: खनन घोटाला में पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के साथ पांच IAS पर मनी लांड्रिंग का केस

0

उत्तर प्रदेश में खनन घोटाले में सीबीआइ जांच के साथ ही अब ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने भी कार्रवाई को गति प्रदान की है। प्रवर्तन निदेशालय अब हमीरपुर के अलावा शामली, फतेहपुर, कौशाम्बी व देवरिया में हुए खनन घोटाले के मामलों में जांच करेगी। ईडी ने सीबीआइ की एफआइआर को आधार बनाकर सपा सरकार के पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति व पांच आइएएस अधिकारियों समेत अन्य के खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट (पीएमएसए) के तहत चार केस दर्ज किया है।

ईडी हमीरपुर खनन घोटाले के मामले में पहले से ही पूर्व मंत्री गायत्री के खिलाफ जांच कर रही है। आइएएस बी.चंद्रकला के बाद अब आइएएस अधिकारी अभय सिंह, संतोष कुमार राय, विवेक, देवी शरण उपाध्याय व जीवेश नंदन की संपत्तियां भी ईडी के निशाने पर होंगी।

उल्लेखनीय है कि ईडी ने बीते दिनों हमीरपुर खनन घोटाले के मामले में कोर्ट की अनुमति पर पूर्व मंत्री गायत्री से चार दिन पूछताछ की थी। सीबीआइ ने जुलाई में खनन घोटाले में ताबड़तोड़ छापेमारी की थी। फतेहपुर व देवरिया में भी खनन घोटाले में केस दर्ज किये थे। सीबीआइ ने इन केसों में पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के अलावा फतेहपुर के तत्कालीन डीएम अभय सिंह, आइएएस अधिकारी जीवेश नंदन, संतोष कुमार, देवीशरण उपाध्याय व तत्कालीन डीएम देवरिया को नामजद किया था।

ईडी ने इन दोनों केस की एफआइआर को परीक्षण के लिए लिया था और केस दर्ज करने का अप्रूवल दिल्ली मुख्यालय से मांगा था। सीबीआइ कौशाम्बी व शामली में खनन घोटाले की जांच पहले से कर रही है। ईडी ने सीबीआइ के इन दोनों केसों को आधार बनाकर मनी लांड्रिंग के केस दर्ज किये है। शामली के मामले में पूर्व मंत्री गायत्री के करीबी विकास वर्मा व अमरेंद्र सिंह उर्फ पिंटू समेत अन्य पर केस दर्ज किया गया है। ईडी अब आरोपितों की संपत्तियों का ब्योरा खंगालेगी।

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार में मंत्री रहे गायत्री प्रजापती के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शिकंजा कस दिया है। गायत्री से हाल ही में पुलिस व ईडी के तमाम अफसरों की मौजूदगी में पूछताछ की गई। पुलिस व ईडी ने लखनऊ जेल में बंद गायत्री से माइनिंग लीज से संबंधित डील और उसके बाद हुए फर्जीवाड़े के बारे में पूछताछ की। यह सारा मामला 2012 से 2016 के बीच का है। जनवरी में सीबीआई ने हमीरपुर में हुए खनन घोटाले में केस दर्ज करते हुए हमीरपुर में जिलाधिकारी रहीं बी चंद्रकला समेत 11 लोगों को नामजद किया था। इसके साथ ही 12 स्थानों पर छापेमारी कर कई अहम दस्तावेज बरामद किए गए थे। सीबीआई की एफआईआर के बाद उसी आधार पर प्रवर्तन निदेशालय ने भी केस दर्ज किया था।

loading...